देश का पहला इमर्सिव डोम

देश का पहला इमर्सिव डोम नया रायपुर में बनकर तैयार हो गया है। डोम की छत पर 15 से 30 मिनट की मूवी दिखाई जाएगी, जिसे देखने पर यह अहसास होगा कि दर्शक उस मूवी के हिस्सा हैं। डोम बनकर तैयार हो चुका है, पूूरी तरह कंप्यूटर से संचालित इस तकनीक की टेस्टिंग हो चुकी है। टेस्टिंग पूरी होने के साथ बाहरी सौंदर्यीकरण का काम भी पूरा हो गया है, इमर्सिव डोम बनाने का काम जर्मनी से संबद्ध बेंगलुरू की कंपनी टेंजिबल एक्सपेरिएंसेस को दिया गया था। कंपनी प्रबंधन ने इसे तैयार करने के लिए उपकरण और एक्सपर्ट जर्मनी से बुलवाए थे। विशेषज्ञों की देखरेख में तैयार डोम का काम तकनीकी काम पूरा हो चुका है। इसकी टेस्टिंग भी लगभग हो गयी है आमतौर पर सिनेमा में मूवी दिखाने के लिए जहां केवल एक प्रोजेक्टर का उपयोग होता है, वहीं इमर्सिव डोम में छह से 12 प्रोजेक्टरों का इस्तेमाल कर इसे रियल बनाने की कोशिश की जाती है। डोम की छत पर विशेष मटेरियल से बने पर्दे पर जो मूवी दिखाई देती है, वह इन प्रोजेक्टरों के मिले-जुले (ब्लेंडेड) तस्वीरों का परिणाम होती है।

 

Facebook Comments


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*